12वीं के बाद कॅरिअर के नए विकल्प...
Business / 24/ 6 months ago

12वीं के बाद कॅरिअर के नए विकल्प...

स्टूडेंट्स और उनके अभिभावकों की सबसे बड़ी चिंता यही होती है कि इंटरमीडिएट के बाद कॅरिअर की काैन-सी राह सबसे मुनासिब होगी...

यदि आप 12वीं कक्षा के छात्र हैं और बोर्ड एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं, तो अक्सर आपके दिमाग में यह सवाल आता होगा या फिर आपके जानने वाले, या रिश्तेदार आपसे जरुर पूछते होंगे कि 12वीं के बाद क्या करना है? किस फील्ड में जाना है? कौन सा कॅरिअर चुनना सही होगा आदि आदि। अधिकांश छात्र 12वीं से पहले ही तय कर लेते हैं कि उन्हें आगे करना क्या है? किस कॅरिअर फील्ड में जाना है। लेकिन कुछ स्टूडेंट्स अंतिम तक यह तय नहीं कर पाते कि उन्हें भविष्य में क्या करना है? कॅरिअर का कौन-सा फील्ड उनके लिए सही रहेगा? इस प्रश्न को लेकर कन्फ्यूज्ड रहते हैं तथा कुछ भी तय नहीं कर पाते हैं।
चाहे आप किस भी स्ट्रीम के हों 12वीं के बाद क्या करना है इसका निर्णय लेना बहुत महत्वपूर्ण होता है क्योंकि यहीं से आपके कॅरिअर की दिशा निर्धारित होती है। आजकल मार्केट में विभिन्न कोर्सेज, स्ट्रीम्स, कई तरह के इंट्रेंस एग्जाम्स और कॅरिअर फील्ड की भरमार है और ऐसे में छात्रों का अपने लिए चयन करते समय कन्फ्यूज्ड होना स्वाभाविक है तथा यह समय भी उनके जीवन का निर्णायक मोड़ होता है। ऐसे में कैसे करें सहीं कॅरिअर का चुनाव आपको इस आर्टिकल के जरिए जानने का मौका मिलेगा।
 
12 वीं के बाद उपलब्ध कुछ
ऑफ-बीट कोर्सेज
12 वीं के बाद अक्सर छात्र दो ही कोर्सेज इंजीनियरिंग और मेडिकल को कॅरिअर विकल्प के रूप में देखते हैं। लेकिन अब नित नये-नये उभरते विकल्पों की वजह से उनके समक्ष भी अब कई अन्य कोर्सेज का विकल्प मौजूद है। पुरानी अवधारणाओं को तोड़ते हुए छात्र अपनी प्रतिभा के अनुरूप इन नए ऑफ़-बीट कोर्सेज का चयन कर उसमें सफलता भी हासिल कर रहे हैं।

पैरामेडिकल
यह फील्ड एक बहुत अच्छा विकल्प हो सकता है| कई लोग सिर्फ मेडिकल फील्ड को डॉक्टर बनने से जोड़कर देखते हैं जबकि ऐसा नहीं हैं मेडिकल साइंस ने आज बहुत तरक्की कर ली है अब आप मेडिकल फील्ड के अलावा पैरामेडिकल कोर्स करके भी हेल्थकेयर सेक्टर में जा सकते है। इस फील्ड में बहुत विकल्प है कई तरह की नौकरियां या व्यवसाय आप पैरामेडिकल की पढाई के बाद कर सकते हैं | पैरामेडिकल साइंस में मुख्य रूप से फिजियोथेरेपी, फार्मेसी रेडियोग्राफी, मेडिकल लैबोरेट्री टेक्नोलॉजी, नर्सिंग, स्पीच थेरेपी, ऑक्यूपेशनल थेरेपी, डेंटल हाइजीन डेंटल मेकैनिक्स, ऑप्टोमेट्री जैसे कई फील्ड शामिल हैं और इसी सिलसिले में अब कई जॉब ओरिएंटेड कोर्सेज शुरू किए जा चुके हैं। इस फील्ड में कदम रखने के लिए 10वीं और 12वीं पास स्टूडेंट्स के लिए फुल टाइम और पार्ट टाइम सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कोर्सेज उपलब्ध हैं।

पत्रकारिता  
पत्रकारिता में भी एक बहुत ही शानदार कॅरिअर बनाया जा सकता है | अगर आपमें लेखन क्षमता, एडिटिंग, फोटोग्राफी जैसी क्वालिटी है तो आपको पत्रकारिता में कॅरिअर बनाने के बारे में विचार करना चाहिए | इस क्षेत्र में पैसे के साथ साथ आपकी समाज में एक अलग छवि बनती हैं और आपका रुतबा भी बड़ता हैं।

प्रोफेशनल कोर्सेज  
प्रोफेशनल कोर्सेज़ का अपना ही जलवा है। छात्र चाहें तो 12वीं के बाद इन कोर्सेज़ का चुनाव कर सकते हैं। वे चाहें तो आईटी और मैनेजमेंट से जुड़े कोई कोर्स कर सकते हैं। बैचलर ऑफ बिजनस मैनेजमेंट (बीबीए), बैचलर ऑफ कम्प्यूटर ऐप्लिकेशंस (बीसीए), डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट, डिप्लोपा इन होटल मैनेजमेंट ऐंड कैटरिंग टेक्नॉलजी, बैचलर इन इन्फॉरमेशन टेक्नॉलजी (बीआईटी), प्रमोशन ऐंड सेल्स मैनेजमेंट, ट्रैवल ऐंड टूरिज्म, फैशन डिजाइनिंग, इवेंट मैनेजमेंट, पब्लिक रिलेशन जैसे कई प्रफेशनल कोर्सेज़ हैं, जो खूब डिमांड में हैं। ये ऐसे क्षेत्र हैं, जिनमें नौकरी का काफी स्कोप है।

वेडिंग प्लानर
युवाओं के लिये कॅरिअर बनाने के लिये कई रास्ते है और वह किसी भी क्षेत्र को चुन कर अपना कॅरिअर बना सकता है। आज बड़ी तादाद में युवा, वेडिंग प्लानर के तौर पर अपने कॅरिअर का चुनाव कर रहे हैं, क्योंकि वेडिंग प्लानिंग में उन्हें अपनी क्रिएटिविटी को पेश करने का सुनहरा अवसर मिल रहा है। आज के दौर में अगर आपके पास क्रिएटिव आइडिया है और उसे हकीकत में बदलने का हुनर आता है, तो अपनी मनपसंद फील्ड में ऊंची उडान भरने के लिए पूरा आकाश है। इन दिनों अधिकतर युवा अपने पैशन को फॉलो करते हुए एेसा कॅरिअर चुन रहे हैं, जिसमें काम करने का अपना एक अलग मजा हो। जहां मेहनत हो, तो साथ में पैसा भी भरपूर हो।

बैंकिंग और फाइनेंस  
यदि हम यह कहें कि आनेवाले कुछ वर्ष बैंकिंग के क्षेत्र में नई नौकरियों की चाह रखने वाले छात्रों के नाम होंगे, तो कुछ गलत नहीं होगा। आगामी कुछ वर्षो में लगभग एक लाख से अधिक छात्रों के लिए बैंकिंग सेक्टर के दरवाजे खुले रहेंगे। यदि आप 10+2 के बाद इस क्षेत्र में प्रवेश करना चाहते हैं, तो 3 वर्ष का एडवांस डिप्लोमा कर सकते हैं। हालांकि कई बैंकों में अब क्लर्क के लिए भी स्नातक आवश्यक योग्यता के रूप में मांगी जाती है, तो स्नातक पूरी कर चुके छात्र भी इस क्षेत्र में अपना कॅरिअर बना सकते हैं, वह स्नातक के बाद एक वर्ष का ग्लोबल पीजी डिप्लोमा इन बैंकिंग एंड फाइनेंस या एक वर्ष का फ़ेलोशिप प्रोग्राम कर सकते हैं।
प्रमुख संस्थान..

दिल्ली पैरामेडिकल एंड मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट www.dpmiindia.com
लक्ष्‍य भारती इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल होटल मैनेजमेंट www.lbiihm.com
इंदिरा गांधी ओपन यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली www.ignou.ac.in
कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय, टूरिज्म एंड होटल मैनेजमेंट विभाग, हरियाणा www.kuk.ac.in

Leave a comment